निशा नगर निगम चुनाव के लिए पूरे जोश में थी, सोशल मीडिया पर इस तरह प्रचार भी कर रही थीं
  • मुरार थाना स्थित वालिया ऑटो वाली गली की घटना
  • सबको प्यार से खाना खिलाया और गले में फंदा डाल दे दी जान

नगरीय निकाय चुनाव में वार्ड-27 से पार्षद के लिए चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही महिला ने फांसी लगाकर जान दे दी। यह कदम उठाने से पहले पति, सास व बेटों को प्यार से खाना खिलाया, जब सभी अपने-अपने काम में व्यस्त हो गए तो फांसी लगा ली। महिला का पति नरेन्द्र जेल प्रहरी है और ग्वालियर सेन्ट्रल जेल में पदस्थ है। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के बाद परिजन के सुपुर्द कर दिया है। खुदकुशी के कारणों का पता नहीं चल सका है।

उपनगर मुरार के शहीद गेट के पास वालिया ऑटो वाली गली नर्मदा कॉलोनी निवासी नरेन्द्र कुमार बाथम जेल प्रहरी हैं। उनकी पत्नी 43 वर्षीय निशा बाथम आगामी दिनों में होने वाले नगर निगम चुनाव में अपना भाग्य अजमाने वाली थीं। वह वार्ड-27 महिला पिछड़ा वर्ग सीट होने पर पूरी तैयारी से चुनाव लड़ने का मन बना चुकी थीं। इतना ही नहीं निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा भी कर दी थी। इसके लिए वह सोशल मीडिया पर लगातार अपना प्रचार कर रही थीं। अपने नाम के पर्चे भी छपवा लिए थे। चुनाव के लिए जो दस्तावेज लगते हैं उसमें उनकी अंकसूची में कुछ कमी थी। इसमें एक शपथ पत्र लगना था। निशा बाथम का मायका झांसी का है और पढ़ाई वहीं की है, इसलिए यह शपथ पत्र वहीं से बनना था। 15 दिसंबर को वह झांसी अपने रिश्तेदार की शादी में शामिल होने गई थीं और शपथ पत्र भी बनवा लिया था। दो दिन पहले ही घर लौटीं। शुक्रवार सुबह सभी को प्यार से खाना खिलाया। पति ड्यूटी के लिए निकल गए, बच्चे अपनी दुकान पर चले गए। इसके बाद निशा ने फांसी लगा ली। देवर मनीष बाथम तत्काल निशा को फंदे से उतारकर अस्पताल लेकर पहुंचा। कुछ देर इलाज के बाद डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया है। पुलिस ने अस्पताल की सूचना पर शव को निगरानी में लेकर जांच शुरू कर दी है।

कोई नहीं समझ पाया मन में क्या चल रहा था

निशा हर समय हंसती रहती थी। नगर निगम चुनाव को लेकर उत्साहित थीं। कोई नहीं समझ पाया कि उनके मन में क्या चल रहा था। शुक्रवार को जब उसके ऐसा कदम उठाने का पता लगा तो लोगों को विश्वास तक नहीं हो रहा था।

Source link

Comment here