प्रतीकात्मक फोटो

  • जब शादियां बंद हो गईं, तब कार्रवाई की सुध आई
  • राजधानी में ऑनलाइन जारी की गईं थी करीब 600 से ज्यादा विवाह समारोह की अनुमति

विवाह समारोह में कोविड-19 के नियमों का पालन हुआ या नहीं, इसकी जांच करने के लिए जिला प्रशासन के अधिकारी हाल ही में राजधानी में हुई शादियों की वीडियो रिकॉर्डिंग देखेंगे। यह हास्यास्पद कार्र‌वाई प्रशासन तब करने जा रहा है जब खरमास के कारण शादियों पर अप्रैल तक ब्रेक लग चुका है। सवाल यह है कि कार्रवाई अब क्यों? जब संक्रमण तेजी से फैल रहा था तब कार्र‌वाई होती तो शायद संक्रमितों की संख्या कम होती।

इधर, कोलार एसडीएम राजेश गुप्ता ने बताया कि वीडियो रिकॉर्डिंग में देखा जाएगा कि दूल्हा-दुल्हन, बाराती-घरातियों ने नियमों का पालन किया या नहीं। जिला प्रशासन के मुताबिक भोपाल में 600 से ज्यादा समारोह की अनुमति ऑनलाइन जारी की गई थी।

लगाया जा सकता है जुर्माना
जिला प्रशासन के अफसरों ने बताया कि कोविड गाइडलाइन का पालन नहीं करने वाले व्यक्ति के खिलाफ जुर्माना लगाया जा सकता है। ये जुर्माना वर-वधु पक्षों पर लगाया जाएगा, क्योंकि ऑनलाइन अनुमति उनके नाम पर जारी की गई थी।

जांच के दौरान यह देखेंगे एसडीएम
शादी समारोह में मास्क लगाकर कार्यक्रम आयोजित किया गया या नहीं।
सैनिटाइजर गेट पर रखा गया था या नहीं।
डिस्टेंसिंग की क्या व्यवस्था थी।
खुले मैदान में 200 और बंद हाल में 100 से ज्यादा मेहमान तो शामिल नहीं हुए थे।

कर्फ्यू का उल्लंघन तो नहीं : भोपाल जिले में रात 10 बजे से कर्फ्यू था, इसिलए इस समय अवधि के बाद तक तो विवाह समारोह का आयोजन नहीं किया गया।

Comment here