fbpx

Highlights
  • लक्ष्यराज सिंह ने 4 गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए
  • जीवन सिर्फ जिए मत जाओ, जीवन में आगे बढ़ो: लक्ष्यराज सिंह
  • ‘यह देखकर खुशी हुई कि कोविड के दौरान लोग दूसरों की मदद के लिए आए’

नई दिल्ली: कोविड-19 महामारी ने एक दूसरे की जरूरतों में मदद करने के महत्‍व को समझाया है. इसने ‘वन वर्ल्ड’ की फिलॉसोफी पर एक बार फिर से सबका ध्‍यान केंद्रित कर दिया और बताया कि दुनिया भर के लोग आपस में जुड़े हुए हैं – और यह कि उनका स्वास्थ्य और कल्याण इस बात पर निर्भर है कि वे एक-दूसरे के साथ कैसा व्यवहार करते हैं. एनडीटीवी ने उदयपुर के लक्ष्यराज सिंह मेवाड़, ट्रस्टी, महाराणा मेवाड़ चैरिटेबल फाउंडेशन, 77वें उत्तराधिकारी और 1500 साल पुराने हाउस ऑफ मेवाड़ के वंशज से बात की कि कैसे एक अधिक समावेशी, कनेक्टेड और देखभाल करने वाली दुनिया बनाई जाए. उन्होंने एक घंटे में सबसे ज्यादा पर्सनल हाइजीन प्रोडक्ट्स दान करने, रीसायकल / दान के लिए कपड़ों का सबसे बड़ा संग्रह करने, 24 घंटे में स्कूल की आपूर्ति का सबसे बड़ा दान और लोगों के साथ मिलकर गमले में सबसे ज्यादा पौधारोपण करने के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में चार रिकॉर्ड बनाए हुए हैं.

इसे भी पढ़ें : समावेशी समाज बनाने पर जानिए पैरालिंपियन दीपा मलिक की राय


एनडीटीवी : सामाजिक कामों के लिए आपकी प्रतिबद्धता सराहनीय है, चाहे वह पेड़ लगाना हो, बालिकाओं की मदद करना हो, स्वदेशी समुदायों और कमजोर आबादी के साथ काम करना हो. आपको क्या प्रेरित करता है?

लक्ष्यराज सिंह मेवाड़: जैसा कि मैं इन सभी अलग-अलग चीजों पर काम कर रहा हूं, मुझे एक फॉर्मूला- जीजीजीएन (GGGN)फॉर्मूला मिला, जो ग्रेटेस्ट गुड, ग्रेटेस्ट नंबर के लिए है. तो, विचार यह है कि जब आप कुछ कर रहे हैं, तो यह सबसे बड़े अच्छे के लिए होना चाहिए और इसके पीछे की पूरी विचार प्रक्रिया यह सुनिश्चित करना है कि यह सबसे बड़ी संख्या के लिए है. तो यही वो प्रेरणा है.

एनडीटीवी: कोविड-19 महामारी के दौरान, आपको किन चुनौतियों का सामना करना पड़ा?

लक्ष्यराज सिंह मेवाड़: उस समय, कनेक्टिविटी का पूरा अनुभव, लोगों के संपर्क में रहना, मानसिकता, पूरी तरह से आंखें खोलने वाला रहा है और कोई कह सकता है कि कोई जीवन भर वहां रहा है लेकिन कभी-कभी घर का पिछवाड़ा ही आपको आश्चर्यचकित कर देता है और आपको तरह-तरह की चुनौतियां देता है. ये चुनौतियां मुझे लगता है कि अच्छी और बुरी दोनों हैं, लेकिन मुझे लगता है, अंत में विजयी होकर बाहर आना, सुरंग के अंत में कुछ प्रकाश देखना, इस प्रक्रिया में लोगों की मदद करने में सक्षम होना एक महान सीखने का अनुभव रहा है. यह कहते हुए बहुत खुशी हो रही है कि महामारी के दौरान विभिन्न परियोजनाओं के लिए जो मदद मिली, वह देश भर से आई. इसके अलावा, तथ्य यह है कि लोगों को सही लोगों तक पहुंचाने में मदद के लिए जो विश्वास था, वह पूरी प्रक्रिया में सबसे बड़ा आत्मविश्वास बढ़ाने वाला और प्रेरक था.

एनडीटीवी: बनेगा स्वस्थ इंडिया, सीजन 8 पर, हम ‘वन हेल्थ, वन प्लैनेट, वन फ्यूचर’ के बारे में भी बात करने जा रहे हैं क्योंकि आखिरकर, हम सभी जुड़े हुए हैं. क्या आपको लगता है कि हमें विश्व की चुनौतियों को समग्र रूप से देखने की जरूरत है?

लक्ष्यराज सिंह मेवाड़: बिल्कुल, मुझे लगता है कि कुछ थका देनी वाली परिस्थितियों और आपदाओं ने हमें भौगोलिक सीमाओं से परे जाने के लिए मजबूर कर दिया है, जिसे हमने हजारों और हजारों सालों से एक संस्कृति के रूप में देखा है, अब यह कुछ ऐसा है जो बाहर जा रहा है और एक वैश्विक घटना बन रहा है- कि संपूर्ण ब्रह्मांड हमारा परिवार है. हम इस पर उदाहरण बनकर आगे बढ़ रहे हैं. सिर्फ हमारे देश में ही नहीं बल्कि दूसरे देशों में भी लोग इसे फॉलो कर रहे हैं. हम न केवल इस बारे में बात कर रहे हैं, बल्कि आखिर में हम अपनी बात पर चल रहे हैं जो बहुत महत्वपूर्ण है और जहां जरूरी है वहां चोट भी कर रहे हैं.

एनडीटीवी: हमारे अभियान का एक बहुत ही जरूरी फोकस है किसी को पीछे नहीं छोड़ना है. हाशिए के समुदायों तक पहुंचना कितना जरूरी है?

लक्ष्यराज सिंह मेवाड़: जरूरतमंदों तक पहुंचना बेहद जरूरी है. हर किसी को यथासंभव मदद करनी चाहिए. यह ऐसा कुछ नहीं है जिसे कोई परिमाणित कर सकता है, या यों कहें कि किसी को भी परिमाणित करने का प्रयास करना चाहिए. मुझे यह कहते हुए वाकई खुशी हो रही है कि उदयपुर में राजस्थान पुलिस बल ने मेरे साथ हाथ मिलाया और न केवल इंसानों के लिए बल्कि सड़क पर आवारा जानवरों के लिए भी कच्चा माल उपलब्ध कराने में मदद की. इसलिए, मैं उन्हें सामने आने और मदद करने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं.

एनडीटीवी: आपने वृक्षारोपण के अलावा पर्यावरण की रक्षा की दिशा में पहल की है. क्या आपको लगता है कि लोगों की भलाई का संबंध पर्यावरण के स्वास्थ्य से भी है?

लक्ष्यराज सिंह मेवाड़: जो लोग अपने घरों में बंद थे और जिनके पास बाहर जाने और बर्तन खरीदने का मौका नहीं था, पोषण करने में सक्षम होने के लिए, या कुछ चीजों की देखभाल करने में सक्षम होने के लिए, मिट्टी और प्रकृति के साथ जुड़ाव के बारे में सोचें, अपने बच्चों के साथ या खुद के साथ कुछ ऐसा था जो लोगों के लिए एक बड़ी जागृति थी. और अब हम जानते हैं कि आगे बढ़ते हुए, विशेष रूप से पर्यावरण की रक्षा करना बहुत जरूरी होने वाला है. और इस संबंध में, भौगोलिक स्थिति वास्तव में मायने नहीं रखती है. हो सकता है कि मुझसे दूर कहीं कोई अनहोनी हो रही हो, जिसका असर मुझ पर भी पड़ेगा. आखिरकार, हम सभी को यह समझना होगा कि यह एक ऐसी चीज है जिसके लिए हम सभी को जिम्मेदारी लेनी होगी.

एनडीटीवी: मेवाड़ के शाही परिवार ने कई अच्‍छे प्रयासों का समर्थन किया है और शिक्षा उन्हीं में से एक है. 150 साल पहले आपके परिवार ने लड़कियों का स्कूल शुरू किया था. लड़कियों के लिए शिक्षा पर आपके क्या विचार हैं ,जो आमतौर पर शिक्षा के मामले में पीछे रह जाती हैं?

लक्ष्यराज सिंह मेवाड़: आजादी से पहले भारत में बहुत से लोग नहीं चाहते थे कि उनकी लड़कियां स्कूल जाएं. लड़कियों के लिए स्कूल 1864 में बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने और लोगों को यह बताने के लिए शुरू किया गया था कि लड़कियों को स्कूल भेजना जरूरी है. बालिकाओं को समाज का हिस्सा बनाने के लिए उन्हें सबसे आगे लाने के लिए शिक्षा बेहद जरूरी है. ऐसा मानना था कि लड़कियों को बंद दरवाजों के अंदर छोड़ दिया जाना चाहिए या शिक्षित नहीं होना चाहिए. मेरा दृढ़ विश्वास है कि शिक्षा के माध्यम से हमारा देश और ज्यादा विकसित हो सकेगा और 19वीं सदी यूके की, 20वीं सदी यूएसए की, 21वीं सदी भारत की होगी.

इसे भी पढ़ें : एक्सपर्ट ब्लॉग: फूड सिस्टम में ये 8 सुधार, जनजातीय आबादी को दिला सकते हैं भरपूर पोषण

अब आप बनेगा स्‍वस्‍थ इंडिया हिंदी पॉडकास्‍ट डिस्‍कशन सुन सकते हैं महज ऊपर एम्बेड किए गए स्‍पोट‍िफाई प्लेयर पर प्ले बटन दबाकर.

हमें एप्‍पल पॉडकास्‍ट और गूगल पॉडकास्‍ट पर फॉलो करें. साथ ही हमें रेट और रिव्‍यू करें.

// Show/Hide Tabs jQuery('.tabs ' + currentAttrValue).show().siblings().hide();

// Change/remove current tab to active jQuery(this).parent('li').addClass('active').siblings().removeClass('active');

e.preventDefault(); }); });

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *