Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंदौर19 मिनट पहले

मंच पर कैलाश विजयवर्गीय, नंद कुमार सिंह चौहान, मालिनी गौड़, उषा ठाकुर और सुदर्शन गुप्ता नजर आए।

  • किसान सम्मेलन में नेताओं के चेहरे मास्क भी रहे गायब, सोशल डिस्टेंसिंग की भी उड़ी धज्जियां

कृषि कानून के समर्थन में बुधवार को आयोजित सम्मेलन में गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सोशल मीडिया के जरिए कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, एक मैसेज आया है, कैकई के बाद में ऐसी कौन सी मां है, जो षड्यंत्रपूर्वक बेटे को गद्दी दिलाना चाहती है। भीड़ ने सोनिया… सोनिया… का शोर मचाया। फिर बोले ताश की गिड्‌डी में कितने पत्ते होते हैं.. लोगों की आवाज आई 52, पंजा दिखाते हुए पूछा – इस पार्टी के कितने सांसद हैं। अब इसे किटी कहें या पार्टी यह आप तय करो।

एक बच्चे को जापान में स्कूल ले जाने के लिए रेल चलती है। यहां तो एक बच्चे को प्रधानमंत्री बनाने के लिए पूरी पार्टी लगी है। ऐसी पार्टी जो सिर्फ देश तोड़ने वाली ताकतों के साथ है। भारत तेरे टुकड़े होंगे…। ये कहते हैं अफजल, हम शर्मिंदा हैं। उनका कहना है, तुम कितने अफजल मारोगे, हर घर में अफजल निकलेगा। हमारी पार्टी का मामला साफ है.. हम उस घर में घुसकर मारेंगे, जिस घर में अफजल निकलेगा।

सांसद शंकर लालवानी और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा भी कार्यक्रम में शामिल हुए।

प्रधान बोले – बिल का विरोध कांग्रेस का दिवालियापन
केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का दिवालियापन है। कृषि कानून कई राज्यों ने लागू कर दिए हैं। एक देन, एक बाजार की आज जरूरत है। ग्लोबल मंडी में लेकर जाने वाला कानून है। एमएसपी लिखकर देने को कहा, हम राजी हैं, लिखकर देने को फिर आंदोलन किस बात का है। यह आंदोलन देश में अस्थिरता पैदा करने के लिए, मोदी विरोध बातें करने के लिए और अराजकता पैदा करने के लिए है।

मप्र बधाई का पात्र है, इंदौर से एक लाख ट्रैक्टर किसानों के हिताें में और प्रधानमंत्री के समर्थन में दिल्ली जाएंगे। तेल और गैस के दामों को लेकर कहा कि दाम इसी महीने में बढ़े हैं। अंतर राष्ट्रीय बाजार में मंहगाई बढ़ने से दाम बढ़े हैं। ठंड में एलपीजी की मांग बढ़ जाती है, इसलिए दाम बढ़े हैं। आने वाले महीने में दाम फिर से घट जाएंगे।

पंडाल में बैठे ज्यादातर लोगों के चेहरे से मास्क गायब रहे।

पंडाल में बैठे ज्यादातर लोगों के चेहरे से मास्क गायब रहे।

कमलनाथ सरकार गिराने वाले मोदी थी, धर्मेंद्र प्रधान नहीं

विजयवर्गीय ने कहा- कपड़े खरीदने जाते हो, तो भाव दुकानदार बताता है। बर्तन खरीदने पर उसका भाव बर्तन वाला और बाइक खरीदने पर उसके भाव शोरूम वाला बताता है। तो फिर जब फसल आपकी है, तो उसका भाव व्यापारी क्यों बताता है। यह मंडी एक्ट अंग्रेजों के जमाने का है। अंग्रेजों का कानून था कि किसान अपने उत्पादन को मंडी में ही बेचेगा, बाहर नहीं। देश आजाद हो गया, लेकिन किसान आजाद नहीं हुआ था। किसानों को आजाद कर क्या मोदी जी ने गुनाह किया। यह कानून किसानों को व्यापारी बनाने वाला है। कानून में यह अधिकार है, किसान को मंडी में अपनी उपज नहीं बेचनी, तो वह कहीं पर भी जाकर उसे बेच सकता है।

उन्होंने कहा कि पहली बार इस मंच से बता रहा हूं कि कमलनाथ की सरकार गिराने में किसी की महत्वपूर्ण भूमिका थी, तो वह नरेंद्र मोदी जी की थी, धर्मेंद्र प्रधान जी की नहीं थी। यह बात किसी को बताना मत।

पूर्व महापौर मालिनी गौड़ ट्रैक्टर पर सवार होकर पहुंचीं।

पूर्व महापौर मालिनी गौड़ ट्रैक्टर पर सवार होकर पहुंचीं।

ये आंदोलन करने वाले वे लोग हैं, जो देश की सेना पर सवाल उठाती है। कांग्रेस के जमाने में माइनस डिग्री में खड़े रहने वाले जवानों के पास जूते तक नहीं थे। कई बार उन सैनिकों की सर्दी से मौत तक हो जाती थी। मोदी जी ने सेना को छूट दी है।

नहीं दिखी सोशल डिस्टेंसिंग, गायब रहे चेहरे से मास्क

दशहरा मैदान पर किसान सम्मेलन में यूं तो हजारों की संख्या में किसान शामिल होने आए। भीड़ भी बढ़ी, लेकिन कोरोना की याद किसी को नहीं आई। चाय से लेकर नाश्ते तक के लिए यहां आए लोग भीड़ में खड़े रहे। बाहर का नजारा तो ऐसा था ही, भीतर भी गाइडलाइन हवा हाेती नजर आई। मंच से लेकर सभा स्थल तक लोगों के चेहरे बिना मास्क ही नजर आए।

Comment here