fbpx

बिल्ली के लिए बना रही थी घर, छत पर आया हार्ट अटैक, बैडमिंटन में जूनियर नेशनल चैंपियन रही श्रुति दे गई सदमा

National Badminton player shruti dies by heart attack

एमपी के बैतूल में बैडमिंटन की राष्ट्रीय खिलाड़ी श्रुति अब इस दुनिया में नहीं रही। इस खबर से खेल जगत और विद्युत नगरी में शोक की लहर है। गुरुवार शाम को अपने ही मकान की छत पर 17 वर्षीय श्रुति बेहोशी की हालत में मिली थी। परिजनों ने बिना देर किए मप्र पॉवर जनरेटिंग कंपनी के अस्पताल लाया। जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

खबर पर यकीन करना मुश्किल

इस खबर से पूरे शहर में सनसनी फैल गई थी। शुक्रवार सुबह 11 बजे एसडीओपी महेंद्र सिंह चौहान, टीआई आदित्य सेन, चौकी प्रभारी राकेश सरियाम, उपनिरीक्षक अलका राय की मौजूदगी में डॉ. विश्वनाथ झरबड़े ने श्रुति का पोस्टमार्टम किया। जिसमें यह बात सामने आई मौत की वजह हार्टअटैक और शरीर में खून की कमी है।

ब्लॉकेज देख डॉक्टर हैरान

वहीं, पीएम होने के बाद ब्लॉकेज देख डॉक्टर खुद हैरान रह गए। सिर में भी खून का थक्का जमा पाया गया है। इतनी कम उम्र की खिलाड़ी की हार्टअटैक से मौत से डॉक्टर भी अचरज में हैं। परिवार के लोग भी इसे लेकर हैरान हैं कि ये सब कैसे हुआ। पहेल श्रुति को इस तरह की कोई शिकायत नहीं थी।

बिल्ली के लिए बना रही थी घर

श्रुति सिर्फ खिलाड़ी ही नहीं थी। वन्य जीव और प्रकृति प्रेमी भी थी। जिस वक्त श्रुति छत पर गिरी। उस समय भी वह बिल्ली के लिए घर बना रही थी। वन्य जीव और पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करने वाले आदिल खान बताते हैं कि श्रुति मेरी छोटी बहन की तरह थी। जब भी कहीं गाय, कुत्ता, बिल्ली घायल अवस्था में देखती थी। कॉल करके इलाज की बात करती थी। पशुओं के उपचार के लिए दवाइयों के नाम पूछती थी। श्रुति के निधन से वन्य जीव संरक्षण के लिए काम करने वाले सभी शोक में डूबे हैं।

स्कूल के लोग हैरान

केंद्रीय विद्यालय के प्राचार्य हरिप्रसाद धारकर बताते हैं कि श्रुति होनहार खिलाड़ी थी। कई बार केंद्रीय विद्यालय संगठन की ओर से राष्ट्रीय प्रतियोगिता में प्रतिनिधित्व किया। श्रुति के निधन की खबर हमारे लिए सदमे जैसी है। परिवार के लिए गहरी शोक संवेदनाएं हैं। सारणी एसडीओपी महेंद्र सिंह ने कहा कि 17 वर्षीय श्रुति सोनी कल शाम 4 बजे बिल्ली के लिए अपने ही मकान की छत पर घर बना रही थी। तब ही अचानक गिर गई। बहन ने जाकर देख। इसके बाद परिजन अस्पताल लाएं। जहां मृत पाई गई।

12 नेशनल गेम खेली

12-

17 साल की श्रुति बैडमिंटन में जूनियर नेशनल चैंपियन रह चुकी है। साथ ही वह 12 बार जूनियर नेशनल बैडमिंटर प्रतियोगित में हिस्सा ले चुकी थी। सारणी की एबी टाइप कॉलोनी में रहने वाली श्रुति के पिता सतपुड़ा थर्मल पावर स्टेशन में डीई के पद पर तैनात हैं। वह इसी साल सेंट्रल स्कूल से 12वीं की परीक्षा पास की थी।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *