पूर्व CM कमलनाथ आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से दिल्ली में मुलाकात करेंगे।

  • सज्जन सिंह वर्मा बोले – मुझे कोई नेता प्रतिपक्ष नहीं बनने देगा, अगर मैं बना तो कई नेताओं की दुकान बंद हो जाएगी

मध्य प्रदेश में कांग्रेस में जल्द ही बड़े बदलाव होने के संकेत मिल रहे हैं। दिल्ली में 19 दिसंबर को कांग्रेस की बड़ी बैठक होने जा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भोपाल से दिल्ली रवाना हो गए है। कमलनाथ की आज देर शाम राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात होगी। माना जा रहा है कि कमलनाथ प्रदेश अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष में से कोई एक पद छोड़ सकते हैं। इस बीच पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का बयान आया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में जल्दी ही बड़ा बदलाव होने जा रहा है। कमलनाथ एक पद छोड़ सकते हैं।

पार्टी सूत्रों ने बताया कि शनिवार को कांग्रेस की बैठक होगी। हालांकि यह बैठक आल इंडिया कांग्रेस कमेटी में चल रही अंदरूनी कलह को दूर करने के लिए बुलाई गई है। लेकिन इससे पहले कमलनाथ की मुलाकात सोनिया गांधी से होगी। प्रदेश कांग्रेस में बदलाव को लेकर कवायद पिछले एक माह से चल रही है, लेकिन कमलनाथ के छिंदवाड़ा में दिए गए बयान के बाद सरगर्मी तेज हो गई है। उन्होंने कहा था कि यदि क्षेत्र की जनता कहेगी तो वे संन्यास ले लेंगे। उन्होंने ऐसा एक बार नहीं बल्कि दो बार कहा। इससे जाहिर है कि कमलनाथ दो में से एक पद छोड़ देंगे।

सोनिया को सौंप सकते हैं उपचुनाव की रिपोर्ट

सूत्रों ने बताया कि कमलनाथ ने सोनिया गांधी से 13 नवंबर को मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने सोनिया गांधी को उपचुनाव में 19 सीटों में मिली हार की प्रारंभिक रिपोर्ट सौंपी थी। तब साेनिया ने एक विस्तृत रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे। इसके बाद कमलनाथ ने जिला अध्यक्षों व प्रभारियों से हर सीट की रिपोर्ट बुलाई थी। कई जिलाध्यक्ष और प्रभारियों ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि सिंधिया और बीजेपी के समर्थन में काम किया है। पैसे के लेन-देन की भी बात सामने आ रही है। प्रत्याशियों ने भी बीजेपी के प्रत्याशी से पैसे लेकर आखिरी के तीन-चार दिनों में प्रचार नहीं किया है।

कमलनाथ ने समीक्षा बैठक में कहा था- मैं यहीं रहूंगा

उपचुनाव में हुई हार की समीक्षा बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा था कि जो लोग कहते हैं कि मैं हार के बाद मध्य प्रदेश छोड़ दूंगा, तो वे सुन लें.. हम 2023 का चुनाव पूरी ताकत से लड़ेंगे। नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव नजदीक हैं, जिसमें पूरी तैयारी के साथ जनता के बीच जाएंगे।

Source link

Comment here