Twitter Restores Blue Badge on RSS Chief Bhagwat’s Account

Twitter Restores Blue Badge on RSS Chief Bhagwat’s Account

Twitter और केंद्र सरकार के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। शनिवार को Twitter ने जब ट्विटर ने उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और संघ प्रमुख मोहन भागवत समेत कई नेताओं के पर्सनल ट्विटर हैंडल से ब्लू टिक हटा दिया था। लेकिन कुछ ही देर बाद Twitter ने पहले उपराष्ट्रपति, फिर मोहन भागवत और संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार के अकाउंट का ब्लू टिक रीस्टोर कर दिया गया।

Twitter ने इस मामले से सफाई देते हुए कहा कि ये अकाउंट काफी समय से एक्टिव नहीं थे। इसलिए वेरिफिकेशन पॉलिसी के तहत बिना किसी सूचना के इन्हें अनवेरिफाई करते हुए इनसे ब्लू बैज हटा दिया गया था। लेकिन दूसरी ओर दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, कांग्रेस नेता अहमद पटेल, एक्टर इरफान खान समेत कई लोगों के ट्विटर अकाउंट अब भी वेरिफाइड हैं और ब्लू टिक के साथ शो हो रहे हैं।

दूसरी ओर Department of Telecommunications ने TWITTER इंडिया को आज आखरी नोटिस भेज दिया हैं। नोटिस में लिखा है कि TWITTER तत्काल प्रभाव से एक स्थानीय शिकायत अधिकारी और एक नोडिल संपर्क ​अधिकारी की नियुक्ति करें और सरकार को उसकी जानकारी दे।

आपको बता दे कि सरकारी की ओर से कहा गया है कि नए दिशानिर्देश नियम 26 मई से प्रभावी हो गए हैं। इनके अनुपालन के लिए सोशल मीडिया कंपनियों को दी गई 3 महीने की अवधि समाप्त होने के बाद भी ट्विटर ने भारत में मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल संपर्क व्यक्ति और शिकायत अधिकारी नियुक्त नहीं किए हैं।

वहीं ट्विटर ने दिल्ली हाईकोर्ट को बताया है कि उसने नए नियमों को लागू कर दिया है और भारत में एक स्थानीय शिकायत अधिकारी की नियुक्ति भी कर दी है। यह नियुक्ति 28 मई को ही कर दी गई।

इस विवाद के बीच आज यानी 5 जून को भारत सरकार ने ट्विटर इंडिया को आखिरी नोटिस भेजा है जिसमें तत्काल प्रभाव से एक स्थानीय शिकायत अधिकारी और एक नोडल संपर्क व्यक्ति को नियुक्त करने और उसकी जानकारी सरकार के साथ साझा करने की बात कही गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *