fbpx

महाकाल मंदिर में उमा सांझी महोत्सव: 2 से 6 अक्टूबर तक मनाया जाएगा, 7 अक्टूबर को निकलेगी मां उमा की सवारी

Uma Sanjhi Mahotsav

 

श्राद्ध पक्ष में महाकाल मंदिर में मनाया जाने वाला उमा सांझी महोत्सव इस साल 2 से 6 अक्टूबर तक मनाया जाएगा। 7 अक्टूबर को श्री उमा माता की सवारी के साथ महोत्सव का समापन होगा। इस विशेष उत्सव में धर्म व संस्कृति के कई रंग देखने को मिलेंगे। हालांकि कोरोना संक्रमण के कारण सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जाएगा।

श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति की बैठक में तय किया गया कि उमा सांझी महोत्सव में कोविड 19 के तहत सांस्कृतिक आयोजन नहीं किये जाएंगे। इस उत्सव को केवल प्रतीकात्मक रूप में मनाने का निर्णय लिया है। हर साल की तरह इस साल भी भव्य व आकर्षक रंगोली बनाई जाएगी। झांकी भी सजाई जाएगी7 व कुंड में भगवान महाकाल को नौका विहार कराया जाएगा। समापन के पहले 6 अक्टूबर को रात्रि जागरण भी किया जाएगा। समापन के अवसर पर संझा विसर्जन होगा। इन सभी कार्यक्रमों के लिए समितियों का गठन किया गया है।

साल में एक बार निकलती है माता उमा रजत पालकी।

साल में एक बार निकलती है माता उमा रजत पालकी।

हर साल अश्विन मास के चंद्र दर्शन की दूज पर माता पार्वती की सवारी निकलती है। साल में एक बार निकलने वाली सवारी में माता उमा रजत पालकी में और भगवान महाकाल मनमहेश रूप में नंदी पर सवार होकर भक्तों को दर्शन देने निकलते हैं। रामघाट पर पुजारी नाव में बैठकर सांझी विसर्जित करते हैं। इसके बाद सवारी महाकाल मंदिर की ओर रवाना हो जाती है। यह सवारी देखने लिए हजारों श्रद्धालु इकट्‌ठा होते हैं। बैठक में महाकाल मंदिर समिति के प्रशासक गणेश धाकड़ समिति सदस्य आशीष शर्मा, सहायक प्रशासक पूर्णिमा सिंगी, मूलचंद जूनवाल, प्रतीक द्विवेदी, सहायक प्रशासनिक अधिकारी आरपी गहलोत, आरके तिवारी, सुरक्षा अधिकारी दीलिप बामनिया, महेश पुजारी, पं. राधेश्यााम शास्त्री, पं. सत्यनारायण जोशी, पं. लोकेन्द्र व्याास, पं. शैलेन्द्र शर्मा, पं. सुभाषचन्द्रं शर्मा सहित अन्य पुजारी-पुरोहित व मंदिर प्रबंध समिति के शाखा प्रभारी उपस्थित थे।


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *