भूतभावन राजाधिराज श्री महाकालेश्वर की जय-जयकार से गुंजायमान हो उठी अवंतिका नगरी

भगवान श्री महाकालेश्वर के वैभव, एैश्वर्य और गरिमा की छटा चारो ओर बिखेरते हुए निकली भगवान की तीसरी सवारी